"Submitting of application for Exploration / Exacavation for the field season 2022-2023 - reg."

विश्व धरोहर स्थल

WorldHeritageProperties
 
1972 में, यूनेस्को की आम सम्मेलन में भारी उत्साह के साथ एक संकल्प लिया गया जिसके साथ विश्व सांस्कृतिक और प्राकृतिक विरासत के संरक्षण संबंधी संघ स्थापित किया गया I इसका मुख्य उद्देश्य सांस्कृतिक और प्राकृतिक दोनों परिप्रेक्ष्य में विश्व विरासत को परिभाषित करना, सदस्य देशों के उन स्थलों और स्मारकों को सूचीबद्ध करना जो असाधारण रुचि और सार्वभौमिक मूल्य के हैं तथा जिनकी सुरक्षा की चिंता सम्पूर्ण मानव जाति को है; और सभी राष्ट्रों और लोगों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने के लिए या भावी पीढ़ियों के लिए, इस सार्वभौमिक निधि के संरक्षण हेतु योगदान करने के लिए सभी देशों और लोगों के बीच सहयोग को बढ़ावा देना थाI
 

अब 981 स्थल विश्व धरोहर की सूची में दर्ज हैं, जिसमें सांस्कृतिक और प्राकृतिक अजूबे दोनों शामिल हैं, और सभी मानव जाति द्वारा साझा की गई अक्षय निधि और जिनकी सुरक्षा पूरी मानव जाति के लिए चिंता का विषय है। इनमें 137 राज्य पार्टियों में 759 सांस्कृतिक, 193 प्राकृतिक और 29 मिश्रित संपत्तियां शामिल हैं। भारत 1977 से विश्व विरासत का एक सक्रिय सदस्य रहा है और अन्य अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों जैसे कि आई.सी.ओ.एम्.ओ.एस (अंतर्राष्ट्रीय स्मारक और स्थल परिषद), आई.यू.सी.एन. (अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति और प्राकृतिक संसाधन संरक्षण संघ) और आई.सी.सी.आर.ओ.एम् (सांस्कृतिक संपत्ति संरक्षण और पुनरुद्धार के अध्ययन के लिए अंतर्राष्ट्रीय केंद्र) के साथ मिलकर काम कर रहा है I
 
भारत में 40 विश्व धरोहर संपत्तियां हैं, जिनमें से 32 सांस्कृतिक संपत्तियां और 7 प्राकृतिक और 1 मिश्रित संपत्तियां हैं।

सांस्कृतिक स्थल
Facebook Twitter