"All Centrally Protected Monuments & Museums of ASI will remain closed till 31.05.2021 or until further orders due to COVID situation."

शेरशाह सूरी का मकबरा, सासाराम

hdr_bihar_shershah

शेरशाह सूरी का मकबरा, सासाराम

सासाराम, बिहार के रोहतास जिले का मुख्यालय है जो ग्रांड ट्रंक रोड (राष्ट्रीय राज मार्ग संख्या 2) पर बसा एक छोटा सा शहर है और मुगलसराय-गया खंड पर उसी नाम का एक रेलवे स्टेशन भी है। यह राज्य की राजधानी, पटना से लगभग 160 कि.मी. दक्षिण-पश्चिम में स्थित है।

शेरशाह सूरी को वास्तव में भारत के राष्ट्रीय नायकों में से एक समझा जाता है। शेरशाह सूरी (मूल नाम फरीद खान) बहादुर, बुद्घिमान, पैनी राजनैतिक परख रखने के साथ-साथ व्यवहार कुशल सैन्य प्रशासक होने के अलावा नगर प्रशासन में भी असाधारण कौशल और योग्यता रखने वाला व्यक्ति था। उसके पिता, हसन शाह सासाराम के जागीरदार थे। शेरशाह सूरी का जन्म सन 1472 ईसवी में हुआ था और उसने अपनी औपचारिक शिक्षा जौनपुर से प्राप्त की थी। अपनी विशेषताओं के कारण उसने अपने कार्य की शुरूआत एक छोटे जागीरदार के रूप में की और वह मुगल बादशाह, हुमायूँ को हराने के बाद सन 1540 ईसवी में दिल्ली के राज सिंहासन पर बैठा। लेकिन दुर्भाग्य से वह पांच वर्ष की एक छोटी अवधि तक ही शासन कर सका क्योंकि रबी-उल-अवाल के दसवें दिन हिजरी 952 या 13 मई 1545 ईसवी को कालिंजर के किले में एक दुर्घटना में उसकी मृत्यु हो गई।

उसने एक स्वतंत्र राजवंश, सूर-अफगान की स्थापना की। उसने विभिन्न क्षेत्रों में आश्चर्यजनक उपलब्धियां प्राप्त की थी। उसने अपने संपूर्ण साम्राज्य में कानून और व्यवस्था की पुन:स्थापना की और व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा दिया। शेरशाह सूरी ने कोलकाता से पेशावर के बीच चलने वाले पुराने राजमार्ग जिसे ग्रांट ट्रंक रोड़ कहते हैं को फिर से चालू करवाया और आगरा से जोधपुर और चित्तौड़ तक एक सड़क का निर्माण करवाया जो गुजरात बंदरगाह के मार्ग को जोड़ती है और तीसरा मार्ग लाहौर से मुल्तान तक बनवाया जो पश्चिम और मध्य एशिया में जाने वाले काफिलों के लिए था। यात्रियों की सुविधाओं के लिए उसने इन मार्गों पर अनेक सरायों का निर्माण करवाया। इसके अतिरिक्त, उसने ‘रूपए’ मुद्रा का प्रारंभ किया और एक व्यवस्थित डाक सेवा की शुरुआत की।

शेरशाह सूरी एक महान निर्माता भी था। उसने दिल्ली के निकट यमुना नदी के किनारे पर एक नया नगर बसाया था जिसमें से केवल पुराना किला ही बचा है। इसके भीतर मस्जिद है जो प्रचुर सजावट के लिए जानी जाती है। लेकिन वास्तुशिल्प के क्षेत्र में उसने उत्कृष्ट योगदान सासाराम, बिहार में अपना स्वयं का मकबरा बनवा कर दिया जो सादगी और लालित्य का मिला-जुला रूप है।

इस मकबरे को भारतीय-अफगान वास्तुशिल्प के भव्य नमूनों में से एक समझा जाता है। यह ईंटों से बनी एक शानदार इमारत है जिसमें अंशत: पत्थर लगे हैं और जो लगभग 305 मीटर माप वाले एक भव्य वर्गाकार तालाब के मध्य में पत्थर के एक बड़े चबूतरे पर खड़ी है। 9.15 मीटर ऊंचा चबूतरा, प्राकार-दीवार से घिरा है जिसके चार कोनों पर अष्टकोणीय गुम्बदनुमा मंडप हैं।

चबूतरे के मध्य में मुख्य कब्र अष्टभुजाकार कम ऊँचाई के एक छोटे चबूतरे पर स्थित है। इस भवन में एक बड़ा अष्टकोणीय कक्ष है जिसके चारों ओर 3.10 मीटर चौड़ा एक बरामदा है। अष्टकोण की प्रत्येक भुजा लगभग 17.00 मीटर की है। मुख्य गुम्बद के चारों ओर अष्टभुज के किनारों पर आठ स्तंभवाले गुम्बज लगे हैं। चबूतरे के ऊपर इस मकबरे की कुल ऊंचाई 37.57 मीटर है।

गुम्बद का भीतरी भाग पर्याप्त रूप से हवादार है और दीवारों के ऊपरी भाग पर बनी बड़ी-बड़ी खिड़कियों से रोशनी भी पर्याप्त आती है। पश्चिमी दीवार पर मेहराब के ऊपर छोटे मेहराबनुमा आलों पर दो पंक्तियां लिखी हुई हैं जिन्हें सलीमशाह द्वारा मकबरे के पूरा होने पर जुमदा के सातवें दिन हिजारी 952 (16 अगस्त, 1545 ईस्वी ) में शेर शाह सूरी की मृत्यु के लगभग तीन माह बाद लिखा गया था।

सासाराम में उसके पिता, हसन शाह और उसके पुत्र, सलीमशाह का मकबरा भी वास्तुकला तथा पुरातात्त्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं।
स्मारक सूर्योदय से सूर्यास्त तक खुला है।

प्रवेश शुल्क:-भारतीय नागरिक और सार्क देशों (बंगला देश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, पाकिस्तान, मालदीव और अफगानिस्तान) और बिमस्टेक देशों (बंगला देश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका, थाईलेंड और म्यांमार) के आगंतुकों के लिए 5/-रूपए प्रति व्यक्ति
अन्य: 2 अमरीकी डालर या 100/- रूपए प्रति व्यक्ति

(15 वर्ष तक की आयु के बच्चों के लिए प्रवेश नि:शुल्क है)।

Facebook Twitter