"No fee shall be charged at Bodh Stupa, Sanchi, M.P on 28th November, 2021 on account of Sanchi Mahotsav, 2021""Internship Programme in Archaeological Survey of India-reg."

संग्रहालय-डीग

main_img


डीग संग्रहालय (राजस्‍थान)

डीग संग्रहालय डीग के महाराजा और उनके परिवार के सदस्‍यों द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्‍तुओं, फर्नीचर इत्‍यादि के संग्रह के साथ व्‍यवस्‍थित किया गया है। अब, इस संग्रह में 547 दस्‍तावेजी वस्‍तुएं हैं। इनमें से सर्वोत्‍तम वस्‍तुएं भोपाल भवन और किशन भवन में प्रदर्शित हैं।

गोपाल भवन डीग महल परिसर के अन्‍दर निर्मित सभी इमारतों में सबसे बड़ी और सर्वाधिक प्रभावशाली इमारत है जिसमें संग्रहालय का प्रमुख भाग स्‍थित है। महाराजा सूरजमल ने 1756-63 ईसवी के दौरान किशन भवन और गोपाल भवन का निर्माण करवाया था। दीर्घाओं में प्रदर्शित वस्‍तुओं में मुख्‍य कक्ष, मान सिंह कक्ष, अंग्रेजी और भारतीय भोजन कक्ष, महाराजा का शयन कक्ष, ए डी सी कक्ष, बिलियर्ड कक्ष, महाराजा का कमरा तथा गोपाल भवन में रानी का तथा जनाना निवास स्‍थान शामिल हैं। भगवान वेणुगोपाल की एक प्रभावशाली चन्‍दन की लकड़ी की प्रतिमा आगन्‍तुकों को सबसे पहले दिखाई पड़ती है। अन्‍य वस्‍तुओं में हाथी के पैरों के सिगरेट केस और इत्र केस, हाथ से चलाये जाने वाले लकड़ी के कालर, पुराने फर्नीचर, फारसी कालीन और बर्तन शामिल हैं।

संपर्क विवरण
मोहन लाल भगरा,
सहायक अधीक्षक पुरातत्त्ववेत्ता,
डीग पैलेस संग्रहालय,
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण,
डीग- 321203 जिला भरतपुर, राजस्थान

Facebook Twitter