"All Centrally Protected Monuments & Museums of ASI will remain closed till 31.05.2021 or until further orders due to COVID situation."

पब्लिशकेशन्स‍ – भारतीय पुरातत्वी सर्वेक्षण का विवरण

सचित्र पोस्ट‍कार्ड (पुस्तिरका में)
(विश्वस धरोहर श्रृंखला)

क्र.सं. विवरण मूल्‍य रू.
1. सांची के स्तूपों पर इष्टयाग (वोटिव) लेखों की तारीख, रामप्रसाद चन्दा (1919), पुनर्मुद्रण
1998 )
90
2. विष्णु के रूप, पंडित बी.बी. विद्याबिनोद (1920, पुनर्मुद्रण
1998)
65
3. तालमाना अथवा दृश्यमापी विज्ञान, टी.ए. गोपीनाथ राव (1920, पुनर्मुद्रण1998) 115
4. नागरी में पुरातत्व अवशेष और उत्खनन, डी.आर. भंडारकर (1920, पुनर्मुद्रण 1998) 100
5. पुरातत्व विज्ञान और वैष्णव परंपरा, रामप्रसाद चन्दा (1920, पुनर्मुद्रण 1998) 70
6. पालमपेट के मन्दिर, गुलाम यजदनी (1922, पुनर्मुद्रण 1998) 80
7. तक्षशिला में उत्खनन, जौलियन में स्तूप और मठ, सर जॉन मार्शल (1921, पुनर्मुद्रण 1998) 175
8. महोबा की 6 मूर्तिकलाएं, के.एन.दीक्षित (1921, पुनर्मुद्रण 1998) 55
9. शेख अब्‍दू-न-नबी का मस्‍जिद, मौलवी जफर हसन (1921, पुनर्मुद्रण 1998) 60
10.

निजामुद्दीन के लिए एक गाइड मौलवी जफर हसन (1922, पुनर्मुद्रण 1998)

105
11. प्रांतीय संग्रहालय, लखनऊ में हाल में शामिल की गई कुछ मूर्तिकलाएं, पं. हीरानन्‍द शास्‍त्री (1922, पुनर्मुद्रण 1998) 75
12.

दिल्‍ली संग्रहालय में खगोलीय उपकरण, जी.आर. केय (1921, पुनर्मुद्रण 1998)

80
13. अभिलेखों में उल्‍लिखित कन्‍नड़ कवि, टी.टी. शर्मन (1924, पुनर्मुद्रण 1998)
1998)
75
14. भीमबार और राजौरी के पुरालेख, रामचन्‍द्र काक (1923, पुनर्मुद्रण 1998) 95
15. सारसेनिक कला में ज्‍यामितीय प्रणाली का आरेख, ई.एच. हान्‍किन (1925, पुनर्मुद्रण 1998) 110
16. भूमारा में शिव मन्‍दिर, आर.डी. बनर्जी (1924, पुनर्मुद्रण 1998) 105
17.

पल्‍लवा वास्‍तुकला, भाग-I (प्रारंभिक अवधि), ए.एच. लांगहर्स्‍ट (1924, पुनर्मुद्रण 1998)

130
18. हिन्‍दू खगोलशास्‍त्र, जी.आर. केय (1924, पुनर्मुद्रण 1998) 140
19.

बदायूं में जामी मस्‍जिद और संयुक्‍त प्रांत में अन्‍य भवन, जे.एफ. ब्‍लैकिस्‍टन (1926, पुनर्मुद्रण 1998)

125
20

तारा की उत्‍पति और सम्‍प्रदाय, हीरानन्‍द शास्‍त्री (1925, पुनर्मुद्रण 1998)

80
21. रेवा का बघेला साम्राज्‍य, हीरानन्‍द शास्‍त्री (1925, पुनर्मुद्रण 1998) 65
22. कुतुब: दिल्‍ली पर ऐतिहासिक विवरण, जे.ए. पेज (1926, पुनर्मुद्रण 1998) 275
23. त्रिपुरी के हैहाया और उनके स्‍मारक, आर.डी. बनर्जी (1931, पुनर्मुद्रण 1998) 295
24. प्रागैतिहासिक और उत्‍तरवर्ती काल की पत्‍थर चित्रकला और पुरालेख, राय साहेब मनोरंजन घोष (1932, पुनर्मुद्रण 1998) 160
25.

बादामी की बसरिलीपस, आर.डी. बनर्जी (1928, पुनर्मुद्रण 1998)

180
26. महाबलीपुरम में पल्‍लव राजाओं की दो मूर्तियां और पत्‍थर के मंदिर में पल्‍लवों के शिलालेख, राव बहादुर एच. कृष्‍णा शास्‍त्री (1926, पुनर्मुद्रण 1998) 70
27. मांडले में क्‍याउक्‍टावगी बौद्ध आकृति का दौरा करने पर अपने महल को छोड़ते हुए राजा मिन्‍डन का जुलूस (1865) चैस ड्यूरोसिली (1925, पुनर्मुद्रण 1990) 110
28.

13 त्रिवेन्‍द्रम नाटकों की भाषा और लेखक, हीरानन्‍द शास्‍त्री (1926, पुनर्मुद्रण 1998)

75
29. दिल्‍ली पुरातत्‍व संग्रहालय में सुलेख की प्रतिलिपि, खान साहब मौलवी जफर हसन (1926, पुनर्मुद्रण 1998) 85
30. भारतीय संग्रहालय, कलकत्‍ता में मूर्तिकला के विशेष संदर्भ में पूर्वी भारत में कला का प्रारंभ, रामप्रसाद चंद (1927, पुनर्मुद्रण 1998) 105
31. वैदिक काल में सिंधू घाटी, रामप्रसाद चंद (1926, पुनर्मुद्रण 1998) 60
32.

सेन्‍ट्रल (मध्‍य) एशिया से प्राज्ञपरमिता पांडुलिपि का अंश, पं. बी.बी. विद्याविनोद (1927, पुनर्मुद्रण 1998)

70
33.

पल्‍लव वास्‍तुकला (भाग-II) मध्‍य अथवा मामल्‍ला काल, ए.एच. लांघहर्स्‍ट (1928, पुनर्मुद्रण 1998)

175
34. हमादान से देरियस का नया पुरालेख प्रो.ई. हर्जफेल्‍ड (1928, पुनर्मुद्रण 1998) 55
35. बलूचिस्‍तान 1925 में उत्‍खनन, सामपुर माउंड मास्‍तेग और सोहार डैम्‍बनाल, एच.हरग्रीव्‍स (1929, पुनर्मुद्रण 1998) 175
36. श्री ए. एंग्‍लेड और एल.वी. न्‍यूटन द्वारा पुलनी हिल्‍स की डोल्‍मेन्‍स (1928, पुनर्मुद्रण 1998) 80
37. औरेल स्‍टेन द्वारा वजीरिस्‍तान और नार्दर्न बलूचिस्‍तान में पुरातत्‍व संबंधी यात्रा (1929, पुनर्मुद्रण 1998) 210
38. कुसानो (कुषाण) सासानियन सिक्‍के, अर्नस्‍ट हर्जफेल्‍ड (1930, पुनर्मुद्रण 1998) 110
39. ल्‍हा-लून मंदिर, स्‍पी-टी, एच.ली. शटलर्क्‍थ (1929, पुनर्मुद्रण 1998) 65
40. पल्‍लव वास्‍तुकला, भाग-III (उत्‍तरवर्ती राजसिम्‍हा काल) ए.एच. लॉगर्स्‍ट (1930, पुनर्मुद्रण 1998) 95
41. सिंधु घाटी की प्रागैतिहासिक सभ्‍यता की उत्‍तरजीविता, रामप्रसाद चंद (1929, पुनर्मुद्रण 1998) 80
42. सर ऑरेल स्‍टेन द्वारा सुपर स्‍वैट और निकटवर्ती पहाड़ियों की पुरातत्‍वीय यात्रा (1930, पुनर्मुद्रण 1998) 280
43. सर औरेल स्‍टेन द्वारा गेदरोसिया की पुरातत्‍वीय यात्रा (1931, पुनर्मुद्रण 1999) 350
44. उड़ीसा में अन्‍वेषण, रामप्रसाद चंद (1930, पुनर्मुद्रण 1998) 87
45. प्रांतीय राजाओं को छोड़कर इन्‍डो-मुस्‍लिम इतिहास की ग्रंथसूची, खान बहादुर मौलवी जफर हसन (1932, पुनर्मुद्रण 1998) 80
46.

ए. फाउचर द्वारा बौद्ध के जन्‍म पर चित्रकला (1934, पुनर्मुद्रण 1998)

90
47. दिल्‍ली प्रान्‍त में संरक्षित स्‍मारकों पर सभी कुरान संबंधी और गैर-ऐतिहासिक शिलालेखों का अभिलेख, मौलवी मुहम्‍मद अशरफ हुसैन (1936, पुनर्मुद्रण 1999) 150
48. सिंध में खोज, एन.सी. मजुमदार, (1934, पुनर्मुद्रण 1999) 320
49. एम. नजीम द्वारा बीजापुर में शिलालेख (1936, पुनर्मुद्रण 1999) 150
50. भारतीय साहित्‍य में श्रावस्‍ती, बी.सी. लॉ (1935, पुनर्मुद्रण 1999) 75
51. हड़प्‍पा के पशु अवशेष, बी. प्रसाद (1936, पुनर्मुद्रण 1999) 115
52. कोटला फिरोज शाह, दिल्‍ली पर संस्‍मरण जे.ए. पेज और मोहम्‍मद हामिद कुरैशी (1937, पुनर्मुद्रण 1999) 140
53.

बिरूनी का विश्‍व वर्णन, ए.जेकी वालिदी लोगन (1934, पुनर्मुद्रण 1999)

150
54. नागार्जुनकोंडा, मद्रास प्रेसीडेन्‍सी की बौद्ध कलाकृतियां, ए.एच. लोघर्स्‍ट (1938, पुनर्मुद्रण 1999) 195
55. पहाड़पुर, बंगाल में खुदाई, के.एन. दीक्षित (1938, पुनर्मुद्रण 1999) 330
56. पागन में आनन्‍द मंदिर, चैस. द्रयूरोइसिली (1937, पुनर्मुद्रण 1999) 95
57. मोहन जोदड़ो लिपि के ”संख्‍या-संकेत” एलन एस.सी. रास (1938, पुनर्मुद्रण 1999) 95
58. प्राचीन साहित्‍य में राजगृह, डॉ. बिमला चर्न लॉ (1938, पुनर्मुद्रण 1999) 90
59. तक्षशीला के पंच-अंकित सिक्‍के, एफ.एच.सी. वाल्‍श (1939, पुनर्मुद्रण 1999) 280
60. प्राचीन साहित्‍य में कौशाम्‍बी, बिमला चर्ण लॉ (1939, पुनर्मुद्रण 1999) 80
61. अगरोहा, पंजाब में उत्‍खनन, एच.एल. श्रीवास्‍तव (1952, पुनर्मुद्रण 1999) 100
62.

पूर्णिया के चांदी के पंच-अंकित मुद्रा संग्रह, पी.एन. भट्टाचार्य (1940, पुनर्मुद्रण 1999)

145
63. वैकुण्‍ठपेरूमल मन्‍दिर, कांची की ऐतिहासिक मूर्तिकला, सी.मीनाक्षी (1941, पुनर्मुद्रण 1999) 150
64. स्‍वात में उत्‍खनन और अफगानिस्‍तान के ऑक्‍सस क्षेत्रों में खोज, एवर्ट बार्गर और फिलीप राइट (1941, पुनर्मुद्रण 1999) 130
65. तक्षशिला की मणिका, होरेस सी.बेक (1941, पुनर्मुद्रण 1999) 130
66. नालंदा और इसकी शिलालेखीय सामग्री, हीरानन्‍द शास्‍त्री (1942, पुनर्मुद्रण 1999) 175
67. पंचाल और उनकी राजधानी अहिछात्रा, बी.सी. लॉ (1942, पुनर्मुद्रण 1999) 70
68. थलाकृतिक और अन्‍य टिप्‍पणियों के साथ पाषाण युग के उपकरणों का मैनले संग्रहण, ए. अयपन एवं फ्रैंक पी. मैनले (1942, पुनर्मुद्रण 1999) 135
69. अष्‍टदससहास्‍त्रिका प्राज्ञपरमिता और अज्ञात पुस्‍तक का सेन्‍ट्रल एशियाई अंश, स्‍टेन कोनौ (1942, पुनर्मुद्रण 1999) 75
70. देवगढ़ में गुप्‍ता मंदिर, माधो सरूप वत्‍स (1952, पुनर्मुद्रण 1999) 210
71. नागार्जुनकोंडा 1938 (टी.एन. रामचन्‍द्रन, 1953, पुनर्मुद्रण 1999) 180
72. चम्‍बा राज्‍य के पुरावशेष भाग-II मध्‍यकालीन और उत्‍तरवर्ती शिलालेख 33 प्‍लेटों के साथ, बी. च. छाबरा, (1957, पुनर्मुद्रण 1999) 270
73. संस्‍कृत साहित्‍य और कला: भारतीय संस्‍कृति का आईना, सी. सिवराममूर्ति (1955, पुनर्मुद्रण 1999) 210
74. कौशाम्‍बी में उत्‍खनन (1949-50), जी.आर. शर्मा (1969) (स्‍टाक में नहीं)
75. नागार्जुनकोंडा (1954-60) खंड-I, आर. सुब्रमण्‍यम(1975) नागार्जुनकोंडा (1954-60) खंड-II, (प्रेस में) 60
76. तेलकुपी, डी. मित्रा 1969 (स्‍टाक में नहीं)
77. सिंधु लिपि, पाठ, शब्‍दानुक्रमणिका और तालिका आई महादेवन (1977) 250
78. लोथल – एक हरप्‍पा शहर (1955-62), एस. आर. राव, खंड-I (1979) खंड-II (1985)

115

160

79. राजेन्‍द्रचोला-I के करन्‍दई तमिल संगम प्‍लेट, के.जी. कृष्‍णन (1984) 120
80. रत्‍नागिरी (1958-61) देबाला मित्रा खंड-I(1981) रत्‍नागिरी (1958-61) देबाला मित्रा खंड-II (1983) 250 210
81. नेपाल के प्रतिविम्‍ब, कृष्‍ण देव (1984) 150
82. सतनीकोटा के उत्‍खनन (1977-80) एन.सी.घोष (1986) 150
83. दैमाबाद (1976-79)एस.ए.सली
(1986)
400
84.

पनटेल काजी (प्राचीन प्रानलका) की गुफाएँ एम.एन. देशपांडे (1986)

150
85.

नागदा (1955-57), एन.आर. बनर्जी (1986)

170
87. सुरकोटाडा में उत्‍खनन और कच्‍छ में खोज जे.पी. जोशी (1990) 325
88. श्रृंगवरपुरा में उत्‍खनन (1977-86), खंड-I, बी.बी. लाल (1993) 600
89. भगवानपुरा में उत्‍खनन (1975-76), जे.पी. जोशी,(1993) 560
90. कावेरीपट्टिनम उत्‍खनन (1963-73) के.वी. सुन्‍दरराजन (1994) 300
91. अंकोरवाट- संरक्षण में भारत का योगदान (1986-73), बी. नरसिम्‍हैया (1994) 500
92. मलवान में उत्‍खनन, एफ.आर. अल्‍लचिन एवं जे.पी. जोशी (1995) 250
93. सन्‍नाथी में उत्‍खनन (1986-89), जेम्‍स होवेल (1955) 325
94. पिपरहवा और गनवरिया में उत्‍खनन, के.एम. श्रीवास्‍तव (1996) 660
95. तुलजापुर गढ़ी में उत्‍खनन (1984-85) बी.पी. बोपारदिकर (1996) 180
97. पौनी में अतिरिक्‍त उत्‍खनन (1994), अमरेन्‍द्रनाथ (1998) 275
98. कालीबन्‍गन – प्राचीन हड़प्‍पन में उत्‍खनन (1961-69) बी.बी. लाल आदि (2003) 1000
99. आदम में उत्‍खनन (1988-1992) अमरेन्‍द्रनाथ (प्रेस में)
Facebook Twitter