Home

मुख्य पृष्ठ   :   संपर्क करें   :   साईट मैप  :खोजें :  English   

New Page 1
About Us
  परिचय 
  स्मारक
  उत्खनन 
  संरक्षण तथा परिरक्षण
  पुरालेखीय अध्ययन 
  संग्रहालय 
  विधान
  प्रकाशन
  पुरातत्व संस्थान 
  केंद्रीय पुरावशेष संग्रह
  राष्ट्रीय मिशन 
 

केंद्रीय पुरातत्व पुस्तकालय 

 

अन्तर जलीय पुरातत्व

 

विदेशों में गतिविधियाँ 

 

उद्यान

 

छायाचित्र चित्रशाला

 

सिंहावलोकन 

 

चलचित्र 

 

सूचना का अधिकार अधिनियम 

होम > संग्रहालय  > लखनऊ 
संग्रहालय-लखनऊ 

1857 स्‍मारक संग्रहालय, रेजीडेन्‍सी, लखनऊ

(जिला लखनऊ, उत्‍तर प्रदेश)

 

रेजीडेन्‍सी के खंडहर हमें लखनऊ में 1857 के महान विद्रोह की याद दिला देते हैं। वे उसी स्‍थिति में परिरक्षित है जिस स्‍थिति में वे 1920 में केन्‍द्रीय संरक्षण में आए। यह संग्रहालय भारतीय स्‍वतंत्रता के प्रथम संग्राम के दौरान इसके महत्‍व को ध्‍यान में रखते हुए स्‍थापित किया गया है। यह संग्रहालय ऐसे भाग में स्‍थित है जो मुख्‍य रेसीडेन्‍सी भवन से जुड़ा है और जिसका पहले प्रयोग रेजीडेन्‍सी परिसर के एक मॉडल को प्रदर्शित करने के लिए किया जाता था।

यह संग्रहालय 1857 के स्‍वतंत्रता संघर्ष के दृश्‍यमान विवरण प्रस्‍तुत करने के लिए तैयार किया गया है और इसमें रेजीडेन्‍सी एक मॉडल, पुरानी फोटो, शिलालेख, चित्र, दस्‍तावेज, अवधि से सम्‍बंधित वस्‍तुएं जैसे बन्‍दूकें, तलवारें, ढालें, तोपें, रैंक के बिल्‍ले, तमगे तथा अन्‍य वस्‍तुएं मौजूद हैं। कैनवास पर चित्रावली और चित्रकारियॉं प्रदर्शित वस्‍तुओं में शामिल हैं जिनमें रेजीडेन्‍सी में हुए कुछ युद्ध तथा इसी भाव से जुड़ी अन्‍य चीजें दर्शायी गई हैं।

प्रदर्शित वस्‍तुएं 1857 की गाथा को कालानुक्रम में प्रस्‍तुत करती है। स्‍थानीय वीरों के मानव चित्रों के साथ-साथ विद्रोह से सम्‍बंधित मूल छायाचित्र और अनेक स्‍थलों के शिलालेख और विद्रोह की महत्‍वपूर्ण घटनाओं को दर्शाने वाले चित्र प्रदर्शित किए गए हैं। लखनऊ में जो कि 1857 के विद्रोह का केन्‍द्र था, रणनीतिक स्‍थितियों को दर्शाने वाले अनेक मानचित्र, रेजीडेन्‍सी का मानचित्र और दीर्घा के विन्‍यास का रेखाचित्र भी प्रदर्शित किया गया है।

यह संग्रहालय दो भागों- भूतल और बेसमेंट में विभाजित है। दक्षिणी दिशा में एक विशाल दोहरे स्‍तंभ वाले पोर्टिको से लेकर भूतल पर प्रवेश किया जा सकता है। प्रवेश द्वार पर बने एक छोटे कमरे से होकर भूतल पर स्‍थित दीघाओं में पहुंचा जाता है और घुमावदार सीढ़ियों से बेसमेंट में स्‍थित दीर्घाओं में पहुँचा जाता है। भूतल में चार दीर्घाएं हैं और बेसमेंट में सात दीर्घाएं हैं।

हाल ही में संग्रहालय के बेसमेंट में एक नई दीर्घा को जोड़ा गया है जिसमें रेजीडेन्‍सी के दक्षिणी भाग में खुदाई के दौरान पाई गई कला वस्‍तुएं मौजूद हैं। इनमें टेराकोटा की अनेक मानव और पशु मूर्तिकाएं, एक गोली भरी पिस्‍तौल, चीनी मिट्टी के बर्तन, तोप के गोले, टेराकोटा की खपरैल, शराब की बोतलों के टुकड़े और चांदी की परत वाला मक्‍खी उड़ाने वाला इत्‍यादि शामिल हैं।

खुले रहने का समय : 10.00 बजे पूर्वाह्न से 5.00 बजे अपराह्न तक

बंद रहने का दिन - सोमवार

प्रवेश शुल्‍क : 5/- रू. प्रति व्‍यक्‍ति

(15 वर्ष तक के बच्‍चों के लिए नि:शुल्‍क)


 

 

 

 

 

 

know about

Lucknow Circle

 

 

 

इसके बारे में जानकारी हासिल करें।

लखनऊ मंडल

 

 

 

 

सम्‍पर्क विवरण

रेजीडेन्‍सी संग्रहालय

श्रीमती लिली धसमाना, ए.एस.ए.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 
About Us