Home

मुख्य पृष्ठ   :   संपर्क करें   :   साईट मैप  :खोजें :  English   

New Page 1
About Us
  परिचय 
  स्मारक
  उत्खनन 
  संरक्षण तथा परिरक्षण
  पुरालेखीय अध्ययन 
  संग्रहालय 
  विधान
  प्रकाशन
  पुरातत्व संस्थान 
  केंद्रीय पुरावशेष संग्रह
  राष्ट्रीय मिशन 
 

केंद्रीय पुरातत्व पुस्तकालय 

 

अन्तर जलीय पुरातत्व

 

विदेशों में गतिविधियाँ 

 

उद्यान

 

छायाचित्र चित्रशाला

 

सिंहावलोकन 

 

चलचित्र 

 

सूचना का अधिकार अधिनियम 

होम > संग्रहालय  > कोणार्क 
संग्रहालय-कोणार्क 

पुरातत्‍वीय संग्रहालय, कोणार्क

(जिला पुरी, उड़ीसा)

 

सूर्य मन्‍दिर की टूटी हुई प्रतिमाओं तथा वास्‍तुकला की वस्‍तुओं के संग्रह वाले इस संग्रहालय को वर्तमान संग्रहालय इमारत में 1968 में स्‍थानांतरित किया गया। वर्तमान संग्रहालय मुख्‍य मन्दिर से कुछ ही दूरी पर, उत्‍तर दिशा में स्‍थित है।

संग्रहालय में चार दीर्घाएं हैं जिनमें सूर्य मन्‍दिर के निकासी कार्य से प्राप्‍त  260 विभिन्‍न पुरावस्‍तुओं को प्रदर्शित किया गया है। इसके अतिरिक्‍त, इसमें एक समृद्ध आरक्षित संग्रह है।

प्रथम दीर्घा में 62 पुरावस्‍तुएं हैं। सूर्य मन्‍दिर के कॉम्‍पलेक्‍स से प्राप्‍त  मूर्तियों में से कई इसी दीर्घा में प्रदर्शित की गई हैं। बलुआ पत्‍थर की सूर्य की प्रतिमा, क्‍लोराइट पत्‍थर की मूर्तियॉं प्रदर्शित की गई हैं जिनमें चर्चारत राजा, विवाह-दृश्‍य तथा विष्‍णु के विभिन्‍न अवतार शामिल हैं। इसके अतिरिक्‍त, अन्‍य महत्‍वपूर्ण पुरावस्‍तुएं प्रदर्शन मंजूषाओं में प्रदर्शित की गई हैं।

द्वितीय दीर्घा में 108 पुरावस्‍तुएं प्रदर्शित की गई हैं। दीर्घा में प्रदर्शित मुख्‍य वस्‍तुओं में मन्‍दिर की पुन: निर्मित दीवार, पूजा पद्धति से सम्‍बन्‍धित वस्‍तुएं जैसे दिकपाल तथा दिव्‍य परियॉं, मगरमच्‍छ का विशालकाय सिर, पत्‍थर पर उकेरे हुए पेड़-पौधे तथा जीव जन्‍तु, ढोल बजाने वाला आदि हैं।

तृतीय दीर्घा में, 45 वस्‍तुएं हैं। दीर्घा में उत्‍तम कारीगरी की विशाल मूर्तियॉं प्रदर्शित की गई हैं जिनमें दिव्‍य परियॉं, सूर्य नारायण की मूर्ति, गज-व्‍याल, राजा तथा उसकी सेना की मूर्तियॉ शामिल हैं। इस दीर्घा में कुछ श्रृंगारिक मूर्तियॉ भी प्रदर्शित हैं। कई मूर्तियाँ प्रदर्शन मंजूषाओं में भी प्रदर्शित की गई हैं।

चौथी दीर्घा हाल ही में स्‍थापित की गई है तथा इसमें 45 शिल्‍प-उपकरण प्रदर्शित हैं। प्रदर्शित वस्‍तुओं में गर्जन करता हुआ सिंह, हाथी की सूंड़ से बंधा हुआ व्‍यक्‍ति, मन्‍दिर में प्रनाला के प्रयोग हेतु मगरमच्‍छ का सिर, सूर्य की मूर्ति तथा नृत्‍य देखते राजा की मूर्ति के भाग, कामुक युगल, सतभंजिका, भित्‍ति-स्‍तंभ पर हाथी, सूचीनुमा कृतियां और हाल लेता हुआ हंस इत्‍यादि शामिल हैं। 

गलियारे (कॉरिडोर) का उपयोग विभिन्‍न प्राचीन स्‍मारकों तथा उड़ीसा की वास्‍तुकला के उद्भव तथा विकास को दर्शाने वाले उड़ीसा के पुरातत्‍वीय स्‍थलों के चित्रों को प्रदर्शित करने के लिए किया गया है।

खुलने का समय : 10.00 बजे पूर्वाह्न से 5.00 बजे अपराह्न

बंद रहने का दिन - शुक्रवार

प्रवेश शुल्‍क : 5/- रू. प्रति व्‍यक्‍ति

(15 वर्ष तक के बच्‍चों के लिए नि:शुल्‍क)


 

 

 

 

 

 

Know about

Bhubaneswar Circle

 

 

 

इसके बारे में जानकारी हासिल करें।

भुवनेश्‍वर मंडल

 

 

 

 

 

सम्‍पर्क विवरण

 

कोणार्क संग्रहालय

डॉ. जे.के. पटनाईक

ए.एस.ए.

    06758-236822

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 
About Us