Home

मुख्य पृष्ठ   :   संपर्क करें   :   साईट मैप  :खोजें :  English   

New Page 1
About Us
  परिचय 
  स्मारक
  उत्खनन 
  संरक्षण तथा परिरक्षण
  पुरालेखीय अध्ययन 
  संग्रहालय 
  विधान
  प्रकाशन
  पुरातत्व संस्थान 
  केंद्रीय पुरावशेष संग्रह
  राष्ट्रीय मिशन 
 

केंद्रीय पुरातत्व पुस्तकालय 

 

अन्तर जलीय पुरातत्व

 

विदेशों में गतिविधियाँ 

 

उद्यान

 

छायाचित्र चित्रशाला

 

सिंहावलोकन 

 

चलचित्र 

 

सूचना का अधिकार अधिनियम 

मुख्य पृष्ठ > संग्रहालय >  
संग्रहालय - Museums

Taj Museum, Agra Archaeological Museum, Aihole, District Bagalkot, Karnataka Archaeological Museum, Amaravati, District Guntur, Andhra Pradesh The Archaeological Museum, Badami, District Bagalkot, Karnataka The Archaeological Musuem, Gol Gumbaz Complex, District Bijapur, Karnataka Archaeological Museum, Bodhgaya, District Gaya, Bihar Archaeological Museum, Chandragiri, District Chittoor, Andhra Pradesh Archaeological Museum, Chanderi, Madhya Pradesh Fort Museum, St. George, Chennai Deeg Museum, Rajasthan Indian War Memorial Museum, Mumtaz Mahal Museum, Archaeological Museum Purana Qila, Salimgarh Fort Museum, Swatantrata Sangram Sanghralaya Archaeological Museum, Gwalior, Madhya Pradesh Archaeological Museum, Halebid, District Hassan, Karnataka Archaeological Museum, Hampi, District Bellary, Karnataka Archaeolgical Museum, Jageshwar, District Almora, Uttaranchal Archaeological Museum, Kalibangan, District Hanumangarh, Rajasthan The Archaeological Museum, Khajuraho, Madhya Pradesh Koch Bihar Palace Museum, West Bengal Mattanchery Palace Museum, Kochi, Kerala Archaeological Museum. Kondapur, Andhra Pradesh 1857 Memorial Museum, Residency, Lucknow, District Lucknow, Uttar Pradesh Archaeological Museum, Lothal, District Ahmedabad, Gujarat Hazarduari Palace Museum, Murshidabad, West Bengal Archaeological Museum, Nagarjunakonda, District Guntur, Andhra Pradesh The Archaeological Museum, Nalanda, District Nalanda, Bihar The Archaeological Museum, Old Goa, District South Goa, Goa Archaeological Museum, Ratnagiri, District Jajpur, Orissa Archaeological Museum, Ropar, Punjab Archaeological Museum, Sarnath, District Varanasi, Uttar Pradesh Archaeological Museum, Sanchi, Madhya Pradesh The Archaeological Site Museum, Sri Suryapahar, District Goalpara, Assam Tipu Sultan Museum, Srirangapatna, District Mandiya, Karnataka Archaeological Museum, Tamluk, West Bengal Archaeological Museum, Konarak, District Puri, Orissa Archaeological Museum, Thanesar Archaeological Museum, Vaishali, District Vaishali, Bihar Archaeological Museum, Vikramshila, District Bhagalpur, Bihar

भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण

                                         पुरातत्‍वीय स्‍थल संग्रहालय 

      

संग्रहालय

भारत में संग्रहालय की अवधारणा अति प्राचीन काल में देखी जा सकती है जिसमें चित्र-शाला (चित्र-दीर्घा) का उल्‍लेख मिलता है। किंतु भारत में संग्रहालय का दौर यूरोप में इसी प्रकार के विकास के बाद प्रारंभ हुआ।  

पुरातत्‍व विषय अवशेषों को संग्रहित करने की सबसे पहले 1796 ई. में आवश्‍यकता महसूस की गर्इ जब बंगाल की एशियाटिक सोसायटी ने पुरातत्‍वीय, नृजातीय, भूवैज्ञानिक, प्राणि-विज्ञान दृष्‍टि से महत्‍व रखने वाले विशाल संग्रह को एक जगह पर एकत्र करने की आवश्‍यकता महसूस की। किंतु उनके द्वारा पहला संग्रहालय 1814 में प्रारंभ किया गया। इस एशियाटिक सोसायटी संग्रहालय के नाभिक से ही बाद में भारतीय संग्रहालय, कोलकाता का जन्‍म हुआ। भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण में भी, इसके प्रथम महानिदेशक एलेक्‍जेंडर कनिंघम के समय से प्रारंभ किए गए विभिन्‍न खोजी अन्‍वेषणों के कारण  विशाल  मात्रा  में  पुरातत्‍व विषयक अवशेष एकत्रित किए गए। स्‍थल संग्रहालयों का सृजन सर जॉन मार्शल के आने के बाद हुआ, जिन्‍होंने सारनाथ (1904), आगरा (1906), अजमेर (1908), दिल्‍ली किला (1909), बीजापुर (1912), नालंदा (1917) तथा सांची (1919) जैसे स्‍थानीय संग्रहालयों की स्‍थापना करना प्रारंभ किया। भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण के एक पूर्व महानिदेशक हरग्रीव्‍स द्वारा स्‍थल-संग्रहालयों की अवधारणा की बड़ी अच्‍छी तरह से व्‍याख्‍या की गई है:   

'भारत सरकार की यह नीति रही है कि प्राचीन स्‍थलों से प्राप्‍त

किए गए छोटे और ला-लेजा सकने योग्‍य पुरावशेषों को उन खंडहरों के निकट संपर्क में रखा जाए जिससे वे संबंधित है ताकि उनके स्‍वाभाविक वातावरण में उनका अध्‍ययन किया जा सके और स्‍थानांतरित हो जाने के कारण उन पर से ध्‍यान हट नहीं जाए।' मॉर्टिन व्‍हीलर द्वारा 1946 में भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण (ए एस आई) में एक पृथक संग्रहालय शाखा का सृजन किया गया। आजादी के बाद, भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण में स्‍थल-संग्रहालयों के विकास में बहुत तेजी आई। वर्तमान में, भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण के नियंत्रणाधीन 41 स्‍थल संग्रहालय हैं।      

 

आगरा

एहोल 

अमरावती

बदामी

बीजापुर

बोधगया

चन्‍द्रगिरि

चन्‍देरी

फोर्ट सेंट जार्ज (चेन्‍नै)

डीग

दिल्‍ली

ग्‍वालियर

हलेबिड

हम्‍पी

जागेश्‍वर

कालीबंगा

कांगड़ा

खजुराहो

कूच बिहार  

कोच्‍चि मट्टन चेरी महल संग्रहालय

कोणार्क

कोंडापुर

लखनऊ

लोथल

मुर्शिदाबाद

नागार्जुनाकोंडा

नालंदा

पुराना गोवा

रत्‍ना गिरी

रोपड़

सारनाथ

सांची

श्री सूर्यपहाड़

श्रीरंगपटनम

तामलूक

थानेसर

वैशाली

विक्रमशिला         

 
About Us